Tuesday, June 2, 2009

पेड़ प्रकृति के वातानुकूलक

पेड़ प्रकृति के वातानुकूलक हैं। एक पेड़ प्रति दिन 400 लिटर पानी हवा में उत्सर्जित करता है, जिससे उतनी ठंडक पैदा होती है जितनी 2500 किलोकेलरी प्रतिघंटा की क्षमता वाले 5 वातानुकूलकों के 20 घंटे निरंतर चलने से पैदा होती है। संवहनी हवाओं के चलते रहने और पत्तों और टहनियों की छाया के कारण भरी दुपहरी में भी पेड़ के नीचे तापमान खुले स्थानों से 10 अंश सेल्सियस कम होता है।

4 comments:

अनिल कान्त : said...

bahut achchhi jankari

मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

Ratan Singh Shekhawat said...

बहुत अच्छी जानकारी

RAJNISH PARIHAR said...

बहुत ही अच्छी जानकारी...!आज हम बेहतर तरीके से जानते है पेडों का महत्व ,फिर भी इनकी संख्या बढ़ने के लिए बहुत कम काम कर रहे है...!शायद अब जागरूकता आएगी...

Aditya Mahobia said...

Nice

Post a Comment

 

हिन्दी ब्लॉग टिप्सः तीन कॉलम वाली टेम्पलेट